बच्चों की इम्युनिटी कैसे बढ़ाएं? | How to increase child’s immunity

अगर आपका बच्चा हमेशा बीमार रहता है या फिर उसके पेट में कोई दिक्कत रहती है। या उसकी जुखाम फ्लू सर्दी खांसी इससे संबंधित कोई भी परेशानी है तो इसका मतलब हैं। कि आपने आपके बच्चे की ह्यूमैनिटी कमजोर है। बच्चे अक्सर बैक्टीरिया वायरस कबक परजीवी जैसे जीवाणुओं के संपर्क में आते हैं । अगर बच्चे की  इम्यूनिटी है तो वह बच्चों को बीमार होने से बचाती हैं। बच्चों की इम्युनिटी कैसे बनाएं (Babies ki immunity kaise badhaye) उसके विषय में अक्सर हमें जानकारी नहीं होती।

इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको बताना चाहते हैं कि बच्चों की इम्यूनिटी कैसे बढ़ाएं (Babies ki immunity l badhane ke upay)के बारे में जानकारी देंगे। अगर इससे संबंधित आपको कोई भी जानकारी चाहिए तो हमारे आर्टिकल को अंत तक पढ़े। 

1. बच्चों की इम्युनिटी बढ़ाने के लिए फल और सब्जी खिलाएं :

स्वस्थ आहार रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए महत्वपूर्ण होता हैं। छोटे बच्चों को हमें रोज ताजी सब्जी और फल खिलना जरूरी हैं। ऐसा करने से हमारे बच्चे की ह्यूमैनिटी कमजोर नहीं होती हैं। अब बच्चे की भूख पर्याप्त रहती है।

बच्चों की इम्युनिटी कैसे बढ़ाएं How to increase child's immunity

 इससे हमारे बच्चे की इम्युनिटी पर कोई खराब प्रभाव नहीं पड़ता है और यह हमारे बच्चे के शरीर को विकसित करने में सहायता होती है। इसके अलावा आप अपने बच्चों को फल और सब्जी का जूस भी पिला सकते हैं। यह बच्चे के शरीर को लगता है।

 इन सब चीजों को मिलाकर आप अपने बच्चों के लिए स्वादिष्ट जूस या पौष्टिक आहार बना सकते हैं। बच्चों की इम्यूनिटी बढ़ाने जिससे बच्चों को पसंद आए और वह खा ले। बड़े बच्चों को उनके मनपसंद की सब्जी खिलाए दिन में एक बार स्नेक्स भी खिलाए। 

2. बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए जरूरी है पर्याप्त नींद :

बच्चों के लिए पर्याप्त नींद की आवश्यकता होती हैं। अगर बच्चों को पर्याप्त नींद नहीं मिलती हैं। तो बच्चे अक्सर बीमार पड़ जाते हैं। इसलिए बच्चों को हमें टाइम पर सुला देना चाहेंगे नवजात शिशु को दिन में 18 घंटे की नींद की आवश्यकता होती हैं।

 जबकि अन्य बच्चों को उनकी उम्र के हिसाब से 12 से 14 घंटे की नींद आवश्यक हैं। जिससे बच्चों को कोई दिक्कत ना हो बच्चों को हमेशा ऐसी जगह चलाएं जहां ज्यादा शोर शराबा न हो। जिससे बच्चे की नींद पर्याप्त हो सके।

 हमने बच्चों को जैसे जगह पर सुलाया है हमें इन बातों का ध्यान रखना चाहिए। कमरा पूरी तरह से बंद ना हो और उसमें हल्की सी रोशनी भी होना चाहिए। एकदम से अंधेरा ना हो

 3. व्यायाम करने से मजबूत होती है बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता:

व्यायाम करने से बच्चे का शरीर मजबूत होता है मैं उसका शरीर हमेशा हस्त पोस्ट रहता हैं। बीमारियों से ग्रस्त नहीं होगा अगर बच्चा दिन में सुबह 30 मिनट का व्यायाम करता है तो उसका शरीर पूरे दिन के लिए हल्का रहेगा और उसको सस्ती नहीं आती हैं।

 और बच्चों को कई स्वस्थ लाभ भी मिलते हैं व्यायाम एक ऐसी चीज है जो आपके बच्चों को एकदम स्वस्थ एवं मजबूत रखना हैं। यह सबसे आसान तरीका हैं। आपके बच्चे को मजबूत होने का अगर आपका बच्चा व्यायाम करता हैं। तो वह आपके जीवन शैली में हमेशा का एक रूटीन बना लेगा जो कि वह हमेशा उसे पर लागू होगा

4. बच्चों की ह्यूमैनिटीज बढ़ाने का उपाय विटामिन डी :

विटामिन डी की कमी होने पर जल्द बीमारी होने का जो जोखिम ज्यादा रहता है। विटामिन डी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में एक औषधि की तरह काम करता है। विटामिन डी की कमी से हमारा शरीर किसी भी बीमारी की चपेट में जल्द ही आ जाता है।

 जैसे कैंसर अस्थमा और प्रतिरक्षक तरह की कई बीमारी हो सकती हैं जिसका हमें भारी सामना पढ़ सकता हैं। बच्चों को सुबह की धूप बहुत ही जरूरी होती हैं।

 जिसे उनके शरीर में विटामिन डी की कमी ना हो पाए और उनका शरीर हष्ट स्पष्ट रहे इसलिए हमें सुबह की धूप बच्चों को जरूर दिखानी चाहिए।

5. साफ सफाई रखने से बढ़ती है बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता :

हमें बच्चों को सफाई के बारे में ज्यादातर सीखना चाहिए। जिससे हमारे बच्चे गंदगी से दूर रहे कभी भी बच्चा बाहर से आए या कभी स्कूल से आए बाथरूम से आए खाना खाने से पहले हाथ मुंह धोने चाहिए। यह सब बातें उसके बड़े होने तक अमल की जाते हैं।

 इन बातों से उसकी आदत पड़ जाएगी जो कि वह इन बातों को हमेशा याद रखेगा सफाई हमारे बच्चों के लिए बहुत ही जरूरी होती है। अगर हमारे घर में कोई पालतू जानवर है तो उसके पास अगर हमारा बच्चा बैठा है। तो उसके बाद उसको हाथ धोना चाहिए उसको सिखाना चाहिए।

 कि हमेशा नहाना चाहिए साफ कपड़े पहनना चाहिए इन सब बातों से मैं अपने सफाई रखे आसपास का एरिया साफ रखना चाहिए जिससे हमारा एरिया रोग ग्रस्त हो सके।

6. बच्चों की इम्यूनिटी मजबूत बनाने के लिए उन्हें अनावश्यक एंटीबायोटिक न दे :

एंटीबायोटिक दवाई हमारी हमारी बॉडी को कमजोर बनाती है। क्योंकि यह हमारे शरीर में उत्पन्न होने वाले अच्छे और खराब बैक्टीरिया दोनों को मार देती हैं। इसके अलावा बैक्टीरिया ए एंट्री बाबायोटि प्रतिरोधी सकता हैं।

 और किसी भी प्रकार के इलाज को धीमा कर सकता है इसलिए इस बात का हमें विशेष ध्यान रखना चाहिए। बच्चों को सर्दी जुकाम खांसी अगर है। तो हमें विशेष कर ध्यान रखना चाहिए कि हमें डॉक्टर से एंटीबायोटिक दवा की सलाह न ले।

7. प्रोबायोटिक बच्चों के रोग प्रतिरोधक बढ़ाने मे लाभकारी है :

प्रोबायोटिक और अच्छे बैक्टीरिया हाथ के मार्ग के लिए बहुत ही उपयोगी होते हैं। जो हमें खराब बैक्टीरिया से बचते हैं यह बच्चों को नियमित रूप से प्रोबायोटिक  युक्त खाद्य  पदार्थ देने चाहिए।

 मुझे बैक्टीरिया हाथ पर सकारात्मक प्रभाव डाल सकते हैं और हमारी आंतों को मजबूत बनाते हैं इसके लिए हमें बच्चों के लिए दही दूध आदि का सेवन करना चाहिए।

स्तनपान करने से बेहतर होती है बच्चों की इम्यूनिटी

बच्चों का दूध बच्चों के लिए (Stanpan se badhaye babies ki immunity)सबसे बेहतर होता है। जो कि हमारे बच्चों का शरीर बहुत प्रतिरोधक क्षमता को काम करता है। और उन्हें रोगों से बचाता हैं। बच्चों के लिए मां का दूध बहुत ही महत्वपूर्ण होता हैं।

 और उनके लिए ताकतवर भी होता है मैं सभी प्रकार के प्रोटीन चीनी और वासवी मौजूद होते हैं। जो की एक बच्चे को मजबूत रहने के लिए बहुत ही जरूरी होते हैं। मां का दूध बच्चों को स्वस्थ बनाता है और उनके लिए लाभदायक होता है। मां का दूध एंटीबायोटिक होता है।

 और इसमें सफेद रक्त की कोशिकाएं भी होती है और यह दोनों रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करता है। और रोग से लड़ने के लिए ताकत देता है। मां का दूध बच्चों के लिए बहुत ही ताकतवर होता है। जब बच्चे को स्तनपान कराया जाता है तो प्रतिरक्षा प्रणाली पैसा का सकर्मक प्रभाव पड़ता है।

 जबकि किसी दूसरे दूध पिलाने से बच्चे पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है इसलिए हमें मां का दूध ही पिलाना चाहिए। मां के दूध के बराबर किसी चीज में अपनी ताकत नहीं है जो कि बच्चों को ताकतवर बना सके।

बच्चों की इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए घरेलू उपाय

प्रतिरक्षा को बढ़ाने के (Babies me immunity badhane ke gharelu upay)लिए कुछ जड़ी बूटियां जो कि हम लोग घर में तैयार करते हैं। और एक लाने से बच्चों को काफी फायदा होता हैं। और बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में सहायता होता है। जो की समान संक्रमण जैसे सर्दी जुकाम खांसी में काम आते हैं। खासकर हमें बच्चों को हेल्दी दूध पिलाना चाहिए जिससे हमारे बच्चों की बॉडी कमजोर ना हो और उन्हें बाहर के साथ चीज खाने से रोकना चाहिए। हमें बच्चों को हमेशा अच्छा खाना खाने के बारे में बताना चाहिए। जिससे उनकी इम्यूनिटी कमजोर ना पड़े और हमेशा ताकतवर बन रहे।

1.हमें सर्दियों में बच्चों के लिए हमेशा गर्म दूध ही पिलाना चाहिए इससे हमारे बच्चों को सर्दी नहीं होती है। और उसे सर्दी जुकाम से बचाता है। अगर हमारे बच्चे को जुखाम में सर्दी है। तो उसके दूध में हल्दी मिलाकर थोड़ी देर उबाले और उसको पिला दे इससे बच्चों को राहत मिलती है। सर्दियों में बच्चों को गर्म दूध ही पिलाना चाहिए वह उसे गर्म चीज खिलानी चाहिए। जिससे बच्चों को सर्दी ना हो

2.हमें अपने बच्चों को रोजाना तुलसी के पत्ते खिलाना चाहिए हफ्ते में कई बार हमें बच्चों को यह पत्ते खिलाने को देनी चाहिए। इससे हमारे शरीर को कई एक फायदे मिलते हैं। अगर हमारे शरीर में बुखार की परेशानी है तो वह कम होती है और ऐसे कई सारी परेशानी है जिसको काम करता हैं।

3.सबसे पुरानी एक दवाई हैं। च्यवनप्राश जो कि वह ठंड में बच्चों और बड़ों के लिए बहुत हिलतायक होती है इसे बहुत सारी जड़ी बूटियां से बनाया जाता हैं। इसको हम एक क्या डेढ़ चम्मच ले इसके खाने से हमारे शरीर में सर्दी में सर्दी जुकाम खांसी में बहुत ही आराम होता हैं। तथा बहुत सारी बीमारी को काम करता हैं। चवनप्राश हमें दो टाइम लेना चाहिए यह हमारे शरीर के लिए बहुत ही लाभदायक हैं। सर्दी में हमारे शरीर के लिए बहुत ही जरूरी होता है इसका सेवन हमें अवश्य करना चाहिए।

4.नवजात शिशु को हमें सर्दी में हमेशा जय पर या बादाम देने चाहिए। यह नवजात शिशु के लिए बहुत ही लाभदायक होता हैं। इससे बच्चों को काम सर्दी लगती है नवजात शिशु को कभी भी ठंडा दूध नहीं पहनना चाहिए इससे बच्चा बीमार हो सकता हैं।

भरपूर प्यार और पोषक भोजन से बढ़ती है बच्चों की इम्यूनिटी

बच्चों को बहुत जरूरी होता है (Poshan se babies ki immunity)कि उसे भरपूर प्यार उसने बड़े हद से ज्यादा महत्वपूर्ण हैं। कि इसकी रोग प्रतिरोधक क्षमता पर कोई प्रभाव न पड़े। बच्चों को महंगे खिलौने कपड़ों की जरूरत नहीं होती हैं।

 लेकिन बच्चों को प्यार की ज्यादा आवश्यकता होती है उसे बच्चा खुश रहता है और उसके स्वास्थ्य परबुरा प्रभाव नहीं पड़ता है माता-पिता को चाहिए। कि वह अपने बच्चों के साथ दिन में एक बार भोजन जरूर करें। जिसके साथ-साथ गए उसके दिन में खेले हुए या दैनिक जीवन के बारे में बात कर सकते हैं।

 बच्चों पर तनाव पूर्ण व्यवहार से काफी असर पड़ता है इससे बच्चे का शरीर पर भी काफी असर पड़ता है। हमें बच्चों को तनावपूर्ण स्थिति से दूर रखना चाहिए। क्योंकि इससे बच्चों की सेहत पर असर पड़ता है।

 उनकी इम्यूनिटी कमजोर पड़ सकती है अपने बच्चों की देखभाल करने में किसी भी तरह का संकोच न करें। उनका पूर्ण ध्यान रखें। अपने बच्चों को गले लगाना बहुत ही जरूरी होता है। इससे उसे पता चलता है कि हमारे माता-पिता हमसे कितना प्यार करते हैं और वह खुशी महसूस करता है

टॉपिक से संबंधित प्रश्न एवं उत्तर (FAQ) 

Q. हमें अपने बच्चों की देखभाल कैसे रखनी चाहिए? 

हमें अपने बच्चों की देखभाल  करनी चाहिए और उन्हें भरपूर प्यार करना चाहिए।

Q. बच्चों के शरीर के लिए क्या चीज लाभदायक है? 

बच्चों के शरीर के लिए व्यायाम बहुत ही जरूरी है। 

Q. नवजात शिशु के लिए सबसे ज्यादा जरूरी क्या है? 

नवजात शिशु के लिए सबसे ज्यादा जरूरी मां का दूध है

Q. इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए बच्चों को क्या खिलाना चाहिए? 

इम्युनिटी बढ़ाने के लिए बच्चों के लिए ताजा फल और सब्जियां खिलौने चाहिए।

निष्कर्ष :

इस आर्टिकल के माध्यम से बच्चों की यूनिटी कैसे बढ़ाएं के विषय में बताने का पूरा प्रयास किया हैं। (Babies ki immunity kaise badhaye) यदि फिर भी आपके मन में कोई प्रश्न है तो कमेंट बॉक्स में जाकर कमेंट  कर कर पूछ सकते हैं।

हमारे आर्टिकल के द्वारा प्रदान की हुई जानकारी बिल्कुल ठोस और सटीक है। अगर आपको हमारा आर्टिकल पसंद आए तो तो आप इसे अवश्य शेयर करें। हमारा आर्टिकल पूरा पूरा पढ़ने के लिए धन्यवाद

Leave a Comment